khabre

शुक्रवार, 19 मार्च 2010

जारी हैं .......

जारी हैं .......


अब तथाकथित मोलवी , साधू , संत और पादरी जो नित्य खबरों में अपने अपने कुकर्मो के कारण आते रहते हैं आप क्या समझते हैं की वो कीसी धरम के अनुयायी हैं.
ऐसा कुछ  नहीं हैं .
वो सिर्फ उन धर्मो का ही नाश नही कर रहे हैं जिनसे वो जुड़े हुए हैं बल्कि वो तो उस श्रेष्ठ आस्था का भी खात्मा कर रहे हैं जो अँधा विश्वाश करके ऐसे पापियों का अनुशरण सिर्फ ये सोचकर करते हैं की सायद उनको उन धरम गुरुवो के सानिध्य से परभउ भगती या मोक्ष की प्राप्ति हो जायेगी
पर होता ऐसा कुछ भी नही हैं
और रहा सवाल गुरु ज्ञान का तो गुरु तो कोई भी हो सकता हैं जिसमे आपको क्या अछि बातें नजर आये .
वो अपने माता पिता और घर में से कोई भी हो सकता हैं 


अत ऐसी कीसी भी सोच का समर्थन केवल ये सोचकर न करे की इसने भगवा कपडे पहने हैं तो ये अच्छा साधू होगा 
गुरु कोई भी हो सकता हैं जो अछ्हा ज्ञान दे .

4 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्रों में संतो के जो लक्क्षण बताये गएँ है-वह आज के इन पाखंडियों में कहाँ मिलते है. बाकी पाखंडियो के जो लक्षण तुलसीबाबा ने बतलाये है उन पे यह पूरे खरे उतरते है
    तुलसीदास जी के शब्दों में -
    "जांके नख अरु जटा विशाला,सोई तापस प्रसिद्द कलिकाला" -
    जिसने लम्बी-लम्बी जटा और नाखून रखें हो(ढोंग रचा रखा हो) ऐसे पाखंडी ही कलियुग में बड़े तपस्वी कहलातें है.
    "नारी मुई,गृह संपत्ति नाशी,मुंड मुंडाए भये सन्यासी "
    जिसकी पत्नी मर गयी घर-बार संपत्ति का नाश हो गया है, ऐसे लोग सिर मुंडवा के सन्यासी का भेष धरे बैठ जाते है
    हिन्दू समाज आज इन ढोंगियों के पाँव पड़ने में ही अपना कल्याण मान रहा है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. 20.3.2010.

    Mahodayaji Ramesh vyasji ka abhivadan swikarkare!!

    In absence of hindi script,I am inclined to send
    this comment in english language.The web is fine.I am looking for Great Kalidas Mahakavyam
    Meghdootam in Mp3 or audio.If possible some one on this page may provide.I will be grateful.

    Anunaya saha,

    Bhavdiya,

    Rameshvyas,ahmedabad,gujrat,India.

    उत्तर देंहटाएं
  3. 4.3.2010.
    Dear Bloggers,

    with deep regret I have to send this message
    that there is none who has subscribed to my request.Try and subscribe please if you have some
    better voice pdf version of meghdoot is available.Pl.sung and create cd/dvd upload to the
    web.Jo ichha hai man mahi ram kripa se durlaabha nahi.

    Ramesh vyas,ahmedabad,gujrat India.

    उत्तर देंहटाएं